सावधान : किसी की भी फोटो लगाकर, सिर्फ 3 स्टेप में बना रहे हैं फर्जी पॉर्न…

121
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

कुछ महीनों पहले ‘डीपफ़ेक्स’ के बहुत मामले सामने आए हैं. जिसमें किसी भी अभिनेत्री का चेहरा किसी भी पोर्न गर्ल के शरीर पर लगाकर पॉर्न वीडियो बनाए जा रहे हैं. और इन पोर्न वीडियो की मार्केट में खासा डिमांड है.

ये खबर पढ़कर आपको समझने आ जाएगा कि क्यूं बड़े-बूढ़े हमसे फेसबुक जैसी वेबसाइट्स में अपनी निजी तस्वीरें और सेल्फी डालने से मना करते हैं.

एक वीडियो में डीपफेक टेक्नॉलॉजी से डोनल्ड ट्रंप को फ़िल्मों के खलनायक ‘डॉ. एविल’ में तब्दील कर दिया गया.

डीपफेक्स जैसे वीडियो बनाना अब और आसान हो गया है. लोगों की सेक्शुअल फ़ंतासियों को इंटरनेट के ज़रिए पूरा करने के लिए इस तरह के वीडियो बनाए जा रहे हैं. इस तकनीक के इस्तेमाल के गंभीर परिणाम भी हो सकते हैं.

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के चेहरे को लेकर कई वीडियो बनाए गए हैं. ये वीडियो स्पूफ़ हैं, लेकिन किसी ख़ास मकसद के प्रचार में इनके इस्तेमाल से हो सकने वाले प्रभाव की कल्पना की जा सकती है.

संस्थाएं और कंपनियां इस बारे में जागरूक और तैयार नहीं हैं. जिन वेबसाइट पर ऐसी सामग्री आ रही है वो नजर रख रही हैं. लेकिन, अधिकतर को नहीं पता कि क्या करना है. इस तकनीक के साथ अब प्रयोग होने लगे हैं. यहां उत्सुकता है क्योंकि इससे मशहूर चेहरे अचानक सेक्स टेप में दिखने लगे हैं.

कैसे बनते हैं डीपफ़ेक्स?

नताली डॉर्मर सहित गेम ऑफ थ्रोन्स की कई अभिनेत्रियों का चेहरा इस तकनीक से पॉर्न वीडियो में ग़लत तरीके से इस्तेमाल किया गया है

इन वीडियोज़ को बनाने में इस्तेमाल होने वाले सॉफ्टवेयर के डिज़ायनर बताते हैं कि सॉफ्टवेयर को सार्वजनिक किए जाने के एक महीने के अंदर ही एक लाख से ज्यादा बार इसे डाउनलोड किया जा चुका है. सेक्शुअल वीडियो से छेड़छाड़ एक सदी से हो रही है, लेकिन तब इसे बनाना काफी मुश्किल होता था.

अब ये ए​डिटिंग बस 3 स्टेप्स में पूरी जाती है:

एक विंडो प्रोग्राम फ़ेकऐप ने वीडियो बनाना काफी आसान कर दिया है

1. किसी व्यक्ति की फ़ोटो चुनना.

2. एक पॉर्न वीडियो चुनना.

3. फिर इंतज़ार करना.

बाकी काम आपका कंप्यूटर कर देगा हालांकि यह एक छोटी क्लिप के लिए 40 घंटे तक का समय ले सकता है.

ज़्यादातर लोकप्रिय डीपफ़ेक्स बड़ी हस्तियों के होते हैं, लेकिन ये किसी के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है, कोई अपनी दुश्मनी भी निकाल सकता है. बस उसे एक साफ फोटो मिल जाएं, लेकिन अब किसी की भी फोटो उसके सोशल मीडिया अकाउंट से मिल सकती है. क्योंकि लोग अब बहुत सारी सेल्फी डालते रहते हैं.

ये तकनीक दुनिया भर में लोगों का ध्यान खींच रही है. हाल ही में दक्षिण कोरिया में इंटरनेट पर ‘डीपफ़ेक’ की सर्च बढ़ गई है.

सेलेब्रिटीज़ जिनका चेहरा हुआ डीपफ़ेक्स में इस्तेमाल

जैसा कि इस स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं.

डीपफ़ेक के लिए कुछ हस्तियों का चेहरा ज़्यादा इस्तेमाल हुआ है. हॉलीवुड अभिनेत्री एमा वॉटसन का डीपफ़ेक में बहुत ज़्यादा इस्तेमाल हुआ है.

उनके अलावा मिशेल ओबामा, इवांका ट्रंप और केट मिडलटन के भी डीपफ़ेक बनाए गए हैं.

जैसा कि आप इस स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं. वंडर वुमन की अभिनेत्री गेल गैडोट के चेहरे का इस्तेमाल भी डीपफेक वीडियो में हुआ है…

वंडर वुमन का किरदार निभाने वाली गेल गैडोट का डीपफ़ेक इस तकनीक का असर बताने वाले पहले डीपफ़ेक में से एक था.

कुछ वेबसाइट जो इस तरह के कंटेंट को शेयर करने की सुविधा देती हैं, अब इसे लेकर विकल्पों पर विचार रही हैं. एक इमेज होस्टिंग साइट जिफ़कैट ने उन पोस्ट को हटा दिया था जो डीपफ़ेक्स में पाए गए.

गूगल ने पहले भी इस तरह के कंटेंट की सर्च को मुश्किल बनाने के लिए कुछ कदम उठाए थे. लेकिन अभी यह कहना मुश्किल है कि इस मामले में शुरुआती स्तर पर गूगल ऐसे कोई कदम उठाएगा.

DeepFakes

हाल के वर्षों में इन वेबसाइट ने त​थाकथित ”रिवेंज पॉर्न’‘ की समस्या का सामना किया है. इसमें किसी व्यक्ति को बदनाम करने के लिए बिना अनुमति के उसकी असल तस्वीरें पोस्ट कर दी जाती हैं.

डीपफ़ेक्स ने इन मामलों को और मुश्किल बना दिया है. क्योंकि झूठे वीडियोज़ की मानसिक पीड़ा असल ही होती है.