ज्योतिष ज्ञान: सिंदूर लगाते समय महिलाएं रखें इन 5 बातों का ध्यान, घर में होगी खुशियों की इंट्री

149
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हरिद्वार- न्यूज टुडे नेटवर्क: खूबसूरत दिखना दुनिया की हर औरत को बहुत भाता है। चाहे अमीर हो या गरीब , हर महिला अपने आप को हमेशा खूबसूरत देखना और दिखाना चाहती है। हालाकि बाहरी सुंदरता के साथ-साथ गुणों की सुंदरता भी अगर हो तो क्या कहने। खैर , आज हम आपसे महिलाओं विशेषकर शादीशुदा महिलाओं के श्रृंगार में उपयोग में लाए जाने वाले सिंदूर की चर्चा करने वाले हैं।

किसी भी विवाहित स्त्री के लिए मांग में सिंदूर लगाना अनिवार्य परंपरा मानी गई है। अधिकतर महिलाएं इस परंपरा का पालन भी करती हैं। सिंदूर को सुहाग की निशानी माना जाता है। ऐसे में हमारे देश में सिंदूर से जुड़ी कई मान्यताओं का भी बोलबाला है। सिंदूर के लेकर देश में तरह -तरह की मान्यताएं हैं।

* सिंदूर सिर किनारे पर नहीं लगाना चाहिए। ये अशुभ माना जाता है। ऐसा करने लंबे समय तक करते रहने पर पति से दूरियां बढ़ सकती हैं।

* अगर पति अपनी पत्नी की मांग में रोज सिंदूर लगाता है तो इससे दोनों के बीच प्रेम बढ़ता है।
* मांग में सिंदूर लगाने से महिला को बुरी नजर नहीं लगती है।

* मान्यता है कि पत्नी अगर सिर के बीच में सिंदूर लगाती है तो उसके पति को भाग्य का साथ मिलता है और वैवाहिक जीवन सुखी रहता है।

* ऐसा माना जाता है कि मांग में सिंदूर छिपाना नहीं चाहिए। सिंदूर ऐसे लगाना चाहिए, जिससे ये सभी को दिखता रहे। अगर पत्नी मांग में सिंदूर छिपाकर लगाती है तो ये वैवाहिक जीवन के लिए शुभ नहीं होता है। इसलिए कहा जाता है कि सिंदूर ऐसे लगाएं कि सभी को दिखता रहे।

सिंदूर से जुड़े वैज्ञानिक कारण

सौन्दर्य बढाने के साथ-साथ सिंदूर लगाने के पीछे वैज्ञानिक कारण भी है। सिंदूर का संबध महिला के स्वास्थ्य से भी जुड़ा है। दरअसल सिर के जिस स्थान पर मांग भरी जाती है, वहां मस्तिष्क की एक महत्वपूर्ण ग्रंथी होती है। इसे ब्रह्मरंध्र कहते हैं। ये ग्रंथी बहुत संवेदनशील होती है। सिंदूर में पारा धातु होती है। पारा ब्रह्मरंध्र के लिए औषधि का काम करता है और नकारात्मक ऊर्जा से बचाता है। सिंदूर में मिला हुआ पारा महिलाओं को तनाव से दूर रखता है। चिंता, अनिद्रा की स्थितियों से बचाता है। तो है ना सिंदूर का दोहरा लाभ, लेकिन यह भी सच है कि आज के हाइटेक होते जा रहे युग में मॉडर्न जीवनशैली ने कई महिलाओं को सिंदूर से दूर कर दिया है। लेकिन यह भी सच है कि आज भी अधिकांश सुहागन महिलाएं अपने माथे सिंदूर लगाए बिना दिन की शुरूवात ही नही करती।