सावधान : कहीं आप अपने परिवार को विषैला दूध तो नही पिला रहे ? जानिए क्या है वजह…

128
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क : यह बात दावे के साथ कही जा सकती है कि विश्व भर में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा जो दूध के स्वास्थ्य गुणों से अनजान होगा। हर घर में बचपन से ही बच्चों को इस बात से परिचति कराया जाता है कि दूध पीना सेहत के लिए अत्यंत फायदेमंद है। जब एक बच्चे का जन्म होता है तो वह संपूर्ण रूप से पोषण के लिए अपनी मां के दूध पर निर्भर और फिर अजीवन गाय, भैंस आदि का दूध पी खुद को स्वस्थ रखता है। पर क्या आप दूध से होने वाली हानियों को जानते हैं। आप इन शब्दों को पढ़ कर जरुर चौंक गए होंगे। असल में आज तक हमें यही बताया गया है कि दूध एक ऐसा पदार्थ है जो हमारे शरीर के लिए बहुत लाभदायक होता है, लेकिन हम आपको बता दें कि यहां जो कुछ भी हम आपको बता रहें हैं वह एक ताजा साइंस रिसर्च में साबित हुआ है। हाल ही में जर्मनी तथा न्यूजीलैंड में दूध को लेकर शोध किये गए थे। सामने आये इनके रिजल्ट के बारे में वैज्ञानिक कहते हैं कि दूध से सिर्फ फायदे ही नहीं है बल्कि कुछ हानियां भी होती है।

cow_1

विदेशी गाय का दूध होता है हानिकारक

वैज्ञानिकों ने बताया कि सभी दूग्ध पशुओं का दूध स्वास्थ्य के लिए सही नहीं होता। दूध 2 प्रकार का होता है।A-1 तथा  A-2 दूध। वैज्ञानिक कहते है कि A-2 दूध स्वास्थ्य के लिए सही होता है पर A-1 दूध से स्वास्थ्य को कुछ हानि पहुंच सकती है। आपको बता दें कि विदेशी गायों से जो दूध मिलता है वह A-1 कहलाता है। इस दूध में बीसीएम-7 तत्व पाया जाता है जोकि मानव की रोग प्रतिरोधक क्षमता को घटाता है। वहीं दूसरी और देशी गायों से A-2 दूध मिलता है जो कि स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। भारत में साहिबाल, गिर होस्टीन, गिर आदि प्रजातियों की देशी गायें पाई जाती हैं जिनसे मिलने वाला दूध A-2 होता है जो कि मानव जीवन के लिए लाभदायक होता है। देशी गाय के दूध में ओमेगा थ्री तत्व पाए जाते हैं जो मानव के ह्रदय संस्थान के लिए बहुत लाभदायक होता है। इसके अलावा इसमें एलडीएल, बीटा केरोटीन, सीएलए जैसे तत्व भी पाएं जाते हैं जो जीवन के लिए बहुत लाभदायक होते हैं।

milk-5

क्या कहते हैं वैज्ञानिक

कुछ समय पहले न्यूजीलैंड में ‘डेविल इन द मिल्क’ नामक पुस्तक को प्रकाशित किया गया। इस पुस्तक में 22 वर्ष की रिसर्च के बाद आये्र-1 दूध के नतीजों के बारे में भी लिखा गया है। पुस्तक में बताया गया है क्रि-1 दूध में बीसीएम -7 तत्व पाया जाता है तथा मानव खून में घुलने के बाद यह तत्व बीसीएम-7 कंपाउंड को निर्मित कर लेता है। खून के माध्यम से यह शरीर के अलग अलग हिस्सों में पहुँचता है तथा दिमाग की कई बीमारियों को जन्म देता है। इसके अलावा यह लीवर तथा ह्रदय संबंधी बीमारियां भी पैदा करता है। इस प्रकार से इस रिसर्च से जहां यह साबित होता है कि दूध की हानियां भी होती हैं वहीं यह भी सिद्ध होता है कि देशी गाय का दूध मानव के लिए बहुत लाभदायक होता है।