बरेली पुलिस के इस सिपाही ने कुछ ऐसे छीनी परिवार की खुशियाँ, रोते-बिलखते रह गए माँ-बाप

1624
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

बरेली- न्यूज टुडे नेटवर्क: बरेली के खन्नू मोहल्ला में एक लावारिस बच्चे की गोद लेकर अच्छी परवरिश करना एक दम्पत्ति को भारी पड़ गया है। बेऔलाद दम्पत्ति की बहन की शिकायत पर चाइल्ड हैल्प लाइन यूनिट ने किला पुलिस के साथ दम्पत्ति सोनू सक्सेना और प्रभा सक्सेना से लावारिस बच्चे को उनके घर से बरामद कर लिया है। 4 साल तक जिस जिगर के टुकडे को पाला पोसा, आज अचानक उसके छीन जाने से सोनू और प्रभा के साथ-साथ दादा दादी का भी रो- रोकर बुरा हाल हो गया है। बच्चे के जन्म से लेकर पुलिस की बरामदगी तक की कहानी एकदम फिल्मी है लेकिन इस बार किरदार असली हैं।

माँ प्रभा और पिता सोनू सक्सेना की गोद में हंसता खेलता मासूम आरूष

क्या है मामला

दरअसल बरेली के किला क्षेत्र में खन्नू मोहल्ला में रहने वाले सोनू सक्सेना की शादी साल 2004 में प्रभा सक्सेना से हुई थी। शादी 10 साल गुजर जाने के बाद भी सक्सेना दम्पत्ति को औलाद सुख नही मिल सका। घर पर सोनू और प्रभा के अलावा उनके माता-पिता प्रकाश चन्द्र और चमेली देवी भी रहते हैं। परिवार में 2 बहिनें हैं जिसमें से एक बेटी की शादी कुछ साल पहले हो गई । घर के इकलौते बेटे सोनू को संतानसुख न मिलने से पूरा परिवार मायूस था। मंदिर से लेकर हर डॉक्टरी ईलाज करा लिया, लेकिन कोई खुशखबरी नही आई।

कुछ इस तरह हर साल धूमधाम से सक्सेना परिवार में मनाया जाता रहा मासूम आरूष का जन्मदिन

ऐसे में एक दिन अचानक पड़ोस में रहने वाले एक अस्पतालकर्मी ने सोनू और प्रभा की सूनी कोख को एक लावारिस बच्चे को देकर भर दिया। दरअसल जिला अस्पताल में लोकलाज की भय से किसी ने पैदा हुए बच्चे को लावारिस छोड़ दिया था। लावारिस बच्चे को देखकर वार्ड ब्वाय को खन्नू मोहल्ला निवासी सक्सेना दम्पत्ति की याद आ गई। और उसने बिना किसी कागजी कार्रवाई के 22 मार्च 2015 को नवजात शिशु सोनू सक्सेना और उसके परिवार को सौंप दिया। घर पर नवजात के आने से पूरा परिवार खुशियों से चहक उठा। सोनू सक्सेना और प्रभा सक्सेना ने नवजात बच्चे का नाम आरूष रखा। और अपने बडे ही लाड प्यार से उसकी परवरिश करते हुए अच्छे स्कूल में दाखिला भी करवाया।। साल दर साल उसका जन्मदिन भी धूमधाम से मनाया।

जब जायदाद खिसकती देख हिल गया ‘इकबाल’

नवजात बच्चे को गोद लेने के पहले दिन से सक्सेना परिवार में सबकुछ ठीक ठाक चल रहा था। इस बीच पुलिस विभाग में तैनात इकबाल सिंह गिल नाम के युवक का सोनू सक्सेना की बहिन के साथ मिलना जुलना बढने लगा। परिवार ने पुलिसकर्मी इकबाल सिंह पर उनकी बेटी को गुमराह करने का आरोप लगाया है।

माँ प्रभा सक्सेना के साथ लाड लडाता मासूम आरूष, साथ में आरूष से बिछड़ने के बाद रोते-बिलखते बुजुर्ग दादा-दादी

इस बीच सोनू सक्सेना के बुजुर्ग पिता प्रकाश चन्द्र ने अपनी सारी जायदाद अपने पोते आयुश के नाम कर दी। और यहीं से सक्सेना परिवार पर की खुशियों पर नजर लग गई। सोनू सक्सेना के मुताबिक परिवार की सारी जायदाद पोते आयुश के नाम होता देख इकबाल सिंह गिल की नीयत बिगड़ गई। और उसने सक्सेना परिवार की बेटी के साथ मिलकर आयुश को अपने कब्जे में लेने की हिमाकत तक कर डाली।

यही नही जायदाद को कब्जाने की नीयत से उसने बीते 18 जून को पुलिसिया रौब झाड़ते हुए अपने 2 साथियों के साथ मिलकर सोनू और प्रभा के साथ-साथ बुजुर्ग प्रकाश चन्द्र और उनकी पत्नी चमेली देवी के साथ मारपीट भी की। इसके बाद सोनू सक्सेना की माँ चमेली देवी ने एसएसपी बरेली को आंवाल चौकी में तैनात पुलिसकर्मी इकबाल सिंह गिल के कारनामे की शिकायत भी की।

एसएसपी बरेली से की पुलिसकर्मी इकबाल सिंह गिल की शिकायत

एसएसपी को सौंपी शिकायत में चमेली देवी ने यह भी कहा है कि आंवला चौकी में तैनात सिपाही इकबाल सिंह गिल ने शादीशुदा होते हुए उसकी बहिन के साथ रिश्ता रखा हुआ है। वह बहलाफुसलाकर उसकी बहिन के साथ अनैतिक रिश्ता रखे हुए है। लेकिन आज दिन तक इकबाल सिंह गिल बचता ही रहा है। सक्सेना परिवार का आरोप है कि इकबाल सिंह गिल ने उनकी बेटी को भी बहलाफुसलाकर अपने साथ रख लिया है। बीते रोज सोनू सक्सेना की बहिन की शिकायत पर भी चाइल्ड हैल्प लाइन की टीम ने मासूम आरूष को अपने कब्जे में ले लिया था। वहीं अचानक से अपने जिगर के टुकड़े के छिन जाने से सक्सेना परिवार में दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। घर पर माता-पिता के साथ ही बुजुर्ग दादा-दादी का रो-रोकर बुरा हाल है।

वहीं इस पूरे मामले में सक्सेना दम्पत्ति को अस्पताल से बिना किसी कागजी कार्रवाई के बच्चा गोद लेना इस कदर भारी पड़ गया कि अब उन पर मानव तस्करी जैसे आरोप लग रहे हैं। यही नही 3 साल के मासूम के बयानों के आधार पर सक्सेना परिवार पर मनगढंत आरोपों की बौझार भी की जा रही है। इन सबके बीच सक्सेना परिवार की खुशियों को निशाने पर लेने वाला पुलिसकर्मी इकबाल सिंह गिल बैखौफ घूम रहा है। फिलहाल किला पुलिस इस पूरे मामले में जांच में जुटी हुई है।