अटल जी का दीवाना था पाकिस्तान, जब बोला था – हमारे मुल्क से भी लड़ लीजिए चुनाव

44
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली –न्यूज टुडे नेटवर्क : भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी राजधानी दिल्ली के एम्स में भर्ती है। इलाज चल रहा है। देशभर में अटलजी के लिए दुआएं हो रही हैं। कारण- एक साफ-सुथरे नेता के रूप में उनकी लोकप्रियता। वैसे देखा जाए तो उनकी लोकप्रियता भारत ही नहीं, दुनियाभर में थी। दुश्मन देश पाकिस्तान में भी। भारत रत्न और देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी राजनीति का वो चमकता चेहरा है जो विपक्ष के भी चहेते है। अटल बिहारी वाजपेयी ने ही देश में कांग्रेस के विकल्प की सरकार बनाई थी। राजनीति में तारणहार राम बनकर आए अटल जी ने 24 पार्टियों के गठबंधन NDA के प्रमुख के रूप में सफलतापूर्वक एक साल का कार्यकाल कर देश को पहली गैर कांग्रेसी सरकार दी।

atal bihari

विदेशों की राजनीति भी प्रभावित थी अटल जी से

अटल जी की लोकप्रियता का आलम ये था कि वह सिर्फ पक्ष-विपक्ष ही नहीं बल्कि विदेशों की राजनीति भी उनसे प्रभावित थी। वाजपेयी की लोकप्रियता का आलम यह था कि पाकिस्तानी हुक्मरान एक बार उनसे यह भी कह चुकी है किआप हमारे मुल्क में भी इतने प्रसिद्ध हैं कि कहीं से भी कोई सीट जीत सकते हैं।

manmohan_atal

जब मानमोहन सिंह ने अटल जी को कहा भीष्म पितामह

विपक्षी दलों में अटल जी की लोकप्रियता ये थी कि उन्हें ‘गलत पार्टी में एक अच्छा आदमी’ की संज्ञा दी जाती है। पूर्व प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने उन्हें भीष्म पितामह कहा था। बता दे कि 25 दिसम्बर,1924 को ग्वालियर में जन्मे अटल जी पहली बार 28 की उम्र में 1957 में लोकसभा पहुंचे थे। उसके बाद से 2009 तक वह लगातार 10 बार सांसद बने थे।

atal_speech_

अटल जी के भाषण की दुनिया थी दीवानी

अटल बिहारी वाजपेयी की भाषण देने की कला के सभी कायल थे। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू लोकसभा में वाजपेयी की कश्मीर मुद्दे पर ओजस्वी भाषण सुनकर काफी प्रभावित हुए थे और वे संसद में ही कह उठे कि यह लडक़ा एक दिन देश का प्रधानमंत्री जरूर बनेगा। उनकी कही बात 1996 में जाकर सच हुई, जब वाजपेयी महज 13 दिनों के लिए प्रधानमंत्री बने। इसके बाद वह दोबारा 1998 में प्रधानमंत्री बने और 1999 के लोकसभा चुनाव में वह फिर से 5 साल के लिए सरकार बनाने में सफल रहे।