भारत के इस गांव में रातों-रात सभी करोड़पति बन गए…वजह सीएम साहब हैं

1115
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

अरूणाचल प्रदेश वैसे तो अपनी राजनीति के चक्कर से हमेशा चर्चाओं में रहता है लेकिन इस बार अरूणाचल प्रदेश अपनी राजनीति के लिए नहीं बल्कि एक गांव की वजह से चर्चा का विषय बन गया है. जिस गांव की वजह से चर्चा में है उसका नाम है बोमजा. यहां हर कोई करोड़पति बन गया है. अब इस गांव को एशिया का सबसे अमीर गांव बताया जा रहा है.

अरुणाचल का बोमजा गांव अब एशिया का सबसे अमीर गांव बन गया है.

अमीरी की कारण मुआवजा है. जिसे यहां की सरकार ने इस गांव के हर परिवार को दिया है. जमीन अधिग्रहण के एवज में. तवांग जिले के इस गांव की 5 साल पहले 200 एकड़ जमीन सरकार ने ली थी. लेकिन उनको मुआवजा अब मिला है. गांव के 31 परिवारों को कुल 40 करोड़ 80 लाख रूपये दिए गए हैं. इससे गांव के हर परिवार को कम से कम 1 करोड़ रूपये तो मिले ही हैं. एक परिवार को तो 6.73 करोड़ रूपये मिले हैं.

Bomja Village

राज्य के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने परिवारों को ये मुआवजे के चेक बांटे हैं. इस तरह बोमजा एशिया का पहला गांव बन गया जहां रहने वाले सभी परिवार करोड़पति हैं. 1962 के भारत-चीन युद्ध के बाद से तवांग जिला रणनीतिक रूप से काफी महत्वपूर्ण माना जाता है. रक्षा मंत्रालय इस जमीन पर लोकेशन प्लान यूनिट बनाएगा. बोमजा गांव तवांग से 50 किमी दूर है. वहीं, अगर भूटान की सीमा से इसकी दूरी मात्र पांच किमी है. सीएम खांडू ने चेक बांटते वक्त बताया कि यह वही क्षेत्र है, जहां 1962 के युद्ध में 4 गढ़वाल राइफल्स के राइफलमैन जसवंत सिंह रावत ने शहीद होने से पहले अकेले 300 सैनिकों को मार गिराया था.

यह भी पढ़े- मॉडल के साथ Sex करने के चक्कर में की देश से गद्दारी, जिस थाली में खाया उसी में किया छेद…