मॉडल के साथ Sex करने के चक्कर में की देश से गद्दारी, जिस थाली में खाया उसी में किया छेद…

328
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

इंडियन एयरफोर्स के एक अफसर को ISI के लिए जासूसी करने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार अफसर का नाम कैप्टन अरुण मारवाह है. उन पर इंडियन एयरफोर्स के गुप्त दस्तावेज ISI एजेंट तक पहुंचाने का आरोप है.

गुरुवार को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने कैप्टन अरुण मारवाह को गिरफ्तार किया. स्पेशल सेल के DCP प्रमोद कुशवाह ने इस ख़बर की पुष्टि करते हुए बताया कि ऑफिशियल्स सीक्रेट एक्ट के सेक्शन 3 और 5 के अंतर्गत अरुण मारवाह पर FIR कर दी गई है.

सेक्स चैट से जुड़ा है मामला

51 साल के अरुण मारवाह को सेक्स चैट का चस्का ले डूबा. बीते महिने पहले अरुण मारवाह फेसबुक पर एक महिला के मित्र बने. किरण रंधावा नाम की एक मॉडल की फोटो देखकर वो उत्तेजित हो गए, लेकिन उस फेसबुक अकाउंट को ISI एजेंट्स चलाते थे. फेसबुक में किरण रंधावा नाम के दो फेसबुक अकाउंट थे. कुछ दिन तक फेसबुक पर रेगुलर चैट होने के बाद मामला व्हाट्सएप पर ट्रांसफर हुआ. बात आगे बढ़ी और सेक्स चैट तक जा पहुंची. फोटो और वीडियो शेयर होने लगे. फिर जब कैप्टन अरुण मारवाह को इसका चस्का लग गया, तो धीरे-धीरे ISI एजेंट्स अरूण से वायुसेना के गोपनीय दस्तावेजों की जानकारी मांगने लगे.

अरूण ने कुछ सीक्रेट कागज़ात की तस्वीर खींचकर व्हाट्सएप पर भेज दी. हालांकि इसके लिए पैसों के किसी लेनदेन की बात सामने नहीं आई है.

कैसे खुला मामला?

एक सीनियर एयरफोर्स अधिकारी ने नोटिस किया कि सुरक्षा के स्टैण्डर्ड प्रोसीजर का भारी मात्रा में उल्लंघन हो रहा है. उन्होंने इंटरनल जांच शुरू कर दी. जांच में कैप्टन मारवाह का रोल सामने आया. एयरफोर्स अपने अधिकारियों को स्पेशल फोन देती है. उन्हें नॉर्मल फोन इस्तेमाल करने की इजाज़त नहीं होती. अरुण मारवाह के पास न सिर्फ आम फोन था बल्कि वो उस जगह फोन ले जा रहे थे जहां की सख्त मनाही है. 10 दिन तक पूछताछ करने के बाद एयरफोर्स की काउंटर इंटेलिजेंस ने मामला दिल्ली पुलिस को सौंप दिया. दिल्ली पुलिस ने कैप्टन अरुण मारवाह को गिरफ्तार कर लिया. उन्हें पांच दिन की कस्टडी में भेजा गया है.

Arun Marwah

इस बात की जांच चल रही है कि क्या अरुण मारवाह की किसी बड़े जासूसी रिंग में शिरकत थी? जो कागज़ात उन्होंने ISI को पहुंचाए वो एयरफोर्स के ट्रेनिंग और युद्धाभ्यास से सम्बंधित हैं. ख़ास तौर से ‘गगन शक्ति’ नाम के एक युद्धाभ्यास की डिटेल्स अरुण मारवाह ने आगे भेजी थी. अरुण मारवाह का फोन ज़ब्त कर लिया गया है. एयरफोर्स में पोस्टिंग के दौरान कैप्टन अरुण मारवाह की बहुत से गोपनीय दस्तावेजों तक पहुंच थी. उनमें से क्या-क्या उन्होंने आगे सेंड कर दी इस बात की इन्वेस्टिगेशन चल रही है.