VIDEO: बिग बी के इस विज्ञापन ने खोली सरकारी बैंकों की पोल, विज्ञापन देखकर उड़ी बैंक यूनियन ने नींद

154
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

मुंबई- न्यूज टुडे नेटवर्क: एक पिता के जीवन में यूं तो उसकी औलाद हमेशा से ही खास होती है। लेकिन संतान के रूप में बेटी की भूमिका कुछ ज्यादा ही स्पेशल होती है। पिता और बेटी के इस अनमोल रिश्ते के बीच जीवन मूल्यों को दर्शाता एक ऐसा ही वीडियो सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ने अपने ट्विटर अकाउंट में शेयर किया। पिता और बेटी के रिश्ते की इस पूरी कहानी को बैंक की पृष्ठभूमि के साथ जोड़कर दिखाया गया है।

केरल की आभूषण कंपनी के लिए अमिताभ बच्चन और उनकी बेटी श्वेता नंदा के डेढ़ मिनट के विज्ञापन ने बैंक यूनियन में खलबली मचा दी है। यूनियन ने विज्ञापन को घृणित बताते हुए कहा है कि इस विज्ञापन का मकसद बैंक प्रणाली में अविश्वास पैदा करना है। ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कॉन्फेडरेशन ने विज्ञापनदाता आभूषण कंपनी कल्याण ज्वैलर्स के खिलाफ मुकदमे की चेतावनी दी है।

देखें वीडियो- बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने कुछ ऐसे खोली सरकारी बैंकों की कार्यप्रणाली की पोल

आईबीओसी ने जताई नाराजगी

संगठन ने कंपनी पर विज्ञापन के जरिए लाखों कर्मचारियों की भावना को आहत करने का भी आरोप लगाया है। आईबीओसी के महासचिव सौम्य दत्ता ने कहा कि विज्ञापन का जो विचार और लहजा दिखाया गया और इसका जो तात्पर्य है, वह घृणित और अपमाजनक है। इसका मकसद वाणिज्यिक लाभ के लिये बैंक प्रणाली में अविश्वास पैदा करना है। विज्ञापन में बैंक की गलत तस्वीर पेश की गयी है और लाखों कर्मचारियों की भावना को आहत किया गया है जो निदंनीय है। ऐसे में एआईबीओसी ने आभूषण कंपनी कल्याणी से इस मामले में बिना शर्त माफी मांगने की मांग की है।

क्या कहता है विज्ञापन

विज्ञापन में बुजर्ग व्यक्ति का किरदार निभा रहे अभिनेता बच्चन को एक ईमानदार व्यक्ति के रूप में दिखाया गया है जो अपने पेंशन खाते में आए अतिरिक्त धन को लौटाने बैंक जाता है। बुजुर्ग व्यक्ति के साथ उसकी बेटी भी मदद के लिए साथ में रहती है। ऐसे में जब पिता और बेटी बैंक में दाखिल होते हैं तो वहां मौजूद बैंक कर्मचारियों का बर्ताव कुछ ठीक नही रहता। और ऐसे में विज्ञापन के जरिए बुजुर्ग व्यक्ति के उच्च जीवन मूल्यों को दिखाने की कोशिश की गई है। वहीं सरकारी बैंकों में आमतौर पर कर्मचारियों द्वारा आम व्यक्ति के साथ किए जाने वाले व्यवहार की झलक भी साफ देखी जा सकती है।

कल्याण ज्वैलर्स ने आरोपों को किया खारिज

वहीं बैंक यूनियन के आरोपों को खारिज करते हुए कल्याण ज्वैलर्स ने कहा कि यह पूरी तरह कल्पना पर आधारित है। कल्याण ज्वैलर्स ने आईबीओसी के महासचिव सौम्य दत्ता को लिखे पत्र में कहा है कि यह पूरी तरह काल्पनिक है और हमारा बैंक अधिकारियों को अपमानित करने का कोई इरादा नहीं है। यही नही विज्ञापन से पहले उद्घोषणा भी की गई है। इसमें कहा गया है कि किसी व्यक्ति या समुदाय के सम्मान को ठेस पहुंचाने का कोई इरादा नहीं है।