नई दिल्ली- ब्लू व्हेल गेम के बाद अब ‘Momo Challenge’ ने उड़ाई लोगो की नींद, जाने कैसे फसाता है जाल में..

128
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: ब्लू व्हेल गेम के बाद अब मोमो चैलेंज ने लोगो बीच खौफ फैलाना शुरू कर दिया है। बता दें साल 2016 में ब्लू व्हेल गेम ने पूरी दुनिया में सनसनी मचा दी थी अब इसी तरह का जानलेवा मोमो चैलेंज धीरे-धीरे भारत में फैल रहा है। हाल ही में पश्चिम बंगाल से आई दो सुसाइड रिपोर्ट के बाद राज्य प्रशासन ने इस पर कड़ी सावधानी बरतना शुरू कर दिया है।

जानकारी मुताबिक, जिलों के पुलिस स्टेशन को निर्देश भेजने के अलावा राज्य प्रशासन ने शिक्षा संस्थानों को छात्राओं के व्यवहार पर नज़र रखने के लिए कहा है। ब्लू व्हेल गेम के बाद अब लोगो को इस जानलेवा Momo गेम चैलेंज का सामना करना पड़ रहा है। इस खतरनाक गेम की लिंक ज़्यादातर व्हॉट्सऐप के ज़रिए भेजी जा रही है।

ये हुए मोमो चैलेंज के शिकार

मोमो चैलेंज ने दार्जिलिंग जिले के कुर्सिओंग में 20 अगस्त को मनीश सर्की (18) और अदिती गोयल (26) की अगले दिन जान ले ली। पुलिस की कार्रवाई पर ये बात सामने आई की इन दोनों को ऑनलाइन गेम की लत लग चुकी थी। जिससे दोनों ने ये कदम उठाया। जानकारी के मुताबिक 21 अगस्त को जलपाईगुड़ी की रहने वाली कबीता राय को ये गेम खेलने का इन्वाइट आया। जिसके बाद उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। इसके अलावा कोलकाता में 8 साल के बच्चे की मां राजाश्री उपाध्याय को भी इस जानलेवा गेम का इन्वाइट आया। जिसके बाद उन्होंने भी कोलकाता पुलिस के साइबर सेल में इसकी शिकायत दर्ज कराई।

Momo चैलेंज में कुछ इस तरह ‘Watsapp’ पे आते है मैसेज

क्या है मोमो चैलेंज और कैसे हुई इसकी शुरुआत

प्राप्त जानकारी अनुसार, इस सुसाइड चैलेंज की शुरुआत फेसबुक पर हुई और बाद में व्हॉट्सऐप के जरिए इसे तेजी से फैलाया गया। यह चैलेंज एक लड़की के अजीब और डरावने चेहरे से जुड़ा है। यह इमेज जापान के आर्टिस्ट मिडोरी हायासी ने बनाई है। हालांकि, उनका इस गेम से कोई लेना-देना नहीं है। यह चैलेंज खतरों से भरा है। ऐला कहा गया है कि चैलेंज पूरा न करने पर मोमो (एक फिक्शनल कैरेक्टर) डांटती है और कड़ी सजा देने की धमकी भी देती है।

इसके चलते यूजर डर जाता है और मोमो के निर्देश मानने के लिए मजूबर हो जाता है। मोमो की बात में आकर यूजर डिप्रेशन का भी शिकार हो जाता है। इसके अधिकतर यूजर्स नौजवान और बच्चे हैं। मोमो चैलेंग गेम के जरिए अपराधी बच्चों और युवाओं को अपनी गिरफ्त में ले रहे हैं। निजी जानकारी चुराने के बाद वह परिजनों को धमकी देता है। इसका इस्तेमाल वह फिरौती मांगने के लिए भी करते हैं। इस गेम के जरिए बच्चों को डिप्रेशन कर वह आत्महत्या की ओर ढकेलते हैं।