हल्द्वानी 26 अप्रैल को नहीं बजाएगा गाड़ियों का “हॉर्न”

58
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हल्द्वानी: शहर में बढ़ता ध्वनि प्रदूषण चिंता का विषय बन गया है। डॉक्टरों की माने तो ये मनुष्य सेहत के लिए काफी हानिकारक है।  इसी के मद्देनजर आज  आईएमए के सदस्यों ने  एक अहम बैठक की। इस बैठक में एक फैसला लिया गया कि 26 अप्रैल को नो हॉर्न डे मनाया जाएगा  । आईएमए ने एओआई (नाक, कान गला  विशेषज्ञों की राष्ट्रीय संस्था) और आवाज़ फाउंडेशन नाम की एनजीओ की मदद से “सुरक्षित ध्वनि के लिए राष्टीय पहल “  शुरू की है। इसी के क्रम में ग्रीन पब्लिक स्कूल में एक चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें 40 बच्चों ने भाग लिया। IMA के सदस्यों ने  भविष्य में भी जन जागरूकता अभियान चलाने की बात  कही है।  IMA हल्द्वानी शाखा  के अध्यक्ष  डॉ अनिल कुमार अग्रवाल ने बताया कि कान व्यक्ति के जीवन का एक अभिन्न हिस्सा। वो हमारा दायित्व है कि हम उसको सुरक्षित रखे। डॉ अग्रवाल ने कहा कि मोटर गाड़ियों की संख्या में रही वृद्धि इसका मुख्य कारण है। लोग सड़क पर गाड़ी चलाते है और बेवजह हॉर्न का प्रयोग करते हैं। इससे कानों की सुनने की क्षमका प्रभावित होती है। बैठक में सचिव डॉ. राहुल सिंह और पैट्रन डॉ. जे एस खुराना ने बताया कि ध्वनि प्रदूषण का मुख्य कारण यातायात, ध्वनि विस्तारक यंत्र, धार्मिक व सामाजिक कार्यक्रम, अौद्योगिक इकाइयों द्वारा ध्वनि प्रदूषण व घरेलू शोर जैसे टीवी , रेडियो, म्यूजिक यंत्र द्वारा उत्पन्न आवाजे है। भारत के शहर दुनिया में सबसे ज्यादा ध्वनि प्रदूषण करने वाले है। भारत में मुंबई पहले , लखनऊ दूसरे, हैदराबाद तीसरे और दिल्ली चौथे स्थान पर सबसे ज्यादा ध्वनि प्रदूषण करने शहर है। IMA  की  बैठक में ध्वनि प्रदूषण से बचने के उपाए भी बताए गए।

  • लोगों में जागरूकता फैलाकर
  • सरकारी नियमों का पालन
  • लाउड स्पीकर और पटाकों का कम उपयोग
  • एयर हॉर्न पर बैन
  • हॉर्न का प्रयोग बेवजह ना हो
  • ध्वनि रहित क्षेत्र में हॉर्न बिल्कुल ना बजाया जाए
  • औद्योगिक प्रतिष्ठानों में काम करने वाले श्रमिकों के कानों में एयरप्लग लगे हो
  • कर्मचारियों के सुनने की क्षमता की जांच 

ध्वनि स्तर 

  •  सामान्य वार्तालाप: 30-40 db
  • चिखना-चिल्लाना:50db
  • सामान्य कार हॉर्न:70db
  • एयर हॉर्न:90-100db
  • रॉक म्यूजिक: 100db 
  • व्यस्त गलियो का शोर:80-100

अधिकतम ध्वनि मानक

  • अौद्योगिक- 75db(दिन 6 से 10) , 70db( रात 10से 6)
  • व्यवसायिक-65db( दिन 6 से 10) , 55 db( रात 10 से 6)
  • गैरव्यवसायिक- 55db( दिन 6 से 10), 45 db( रात 10 से 6)
  • ध्वनि रहित जोन-50db( दिन 6 से 10), 40  db ( रात 10 से 6)

बैठक में मौजूद डॉक्टर पूजा सुयाल ने कहा कि IMA  हल्द्वानी शहर की जनता से 26 अप्रैल को हॉर्न का प्रयोग ना करने की अपील करता  है। उन्होंने कहा कि हमारे प्रयत्नों से हम ध्वनि प्रदूषण से बच सकते हैं।