हल्द्वानी- कोषागारों को पेपर लैस और डिजिटल बनाने की कयावद हुई शुरू, 402 कर्मियों ने लिया प्रशिक्षण

136
Facebooktwittergoogle_pluspinterest
हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: प्रदेश सरकार के वित्त विभाग से प्राप्त निर्देशो के क्रम में मौजूदा वित्तीय वर्ष मे कोषागारों से सरकारी लेन देन के साथ सरकारी अभिलेखो का डिजिटाइजेशन होगा। कोषागारो से आहरित होने वाले सभी देयक डिजिटल व्यवस्था के अन्तर्गत आयेंगे इसके साथ राजकीय सेवकों की सेवा पुस्तिका, भविष्य निधि, सभी प्रकार के अवकाश डिजिटल व्यवस्था के अधीन होंगे। इस व्यवस्था से पेपर वर्क लगभग समाप्त हो जायेगा वही कोषागार एवं विभागों के समय की बचत भी हेागी तथा सभी प्रकार के अभिलेख एवं सूचनाये सुरक्षित एवं शु़द्ध होंगे यह जानकारी अपर निदेशक कोषागार एवं पेंशन धर्म सिह बोनाल द्वारा हल्द्वानी कोषागार से सम्बद्व आहरण वितरण अधिकारियों के मेडिकल कालेज सभागार में आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान दी।
मुख्य कोषाधिकारी अनिता आर्या ने कहा कि कोषागारो को पेपर लैस बनाने एवं सभी प्रकार के अभिलेख एवं लेनदेन डिजिटल सेवा से जोडे जायेगे इससे जहां वित्तीय लेनदेन सुगम होगा वही कार्मिको के अभिलेख भी सुरक्षित रहेंगे। इस व्यवस्था के लिए कोषागारों मे आईएफएमएस साफ्टवेयर शीघ्र लागू होगा। उन्होने कहा कि सभी आहरण वितरण अधिकारी अपने कार्यालय के सभी कर्मचारियों के अभिलेखो केा साफ्टवेयर मे अपलेाड करेंगे तथा कार्यालय मे डिजिटल लेनदेेने हेतु आपरेटर के साथ ही सुपरवाइजर को नामित करेंगे जिनके एकाउन्ट आधार से लिंक होंगे,आधार लिंक होने के उपरान्त ही आईडी जनरेट होगी तभी लेेनदेन सम्भव हो पायेगा। अतः इसलिए सभी आहरण वितरण अधिकारी एवं सहयोगी इस प्रशिक्षण को गम्भीरता से लें। उन्होने कहा कि सभी डीडीओ की जिम्मेदारी होगी अभी तक के कर्मचारियो के आॅपलाइन डाटा को आॅनलाइन करें, किसी प्रकार की परेशानी आने पर हेल्प लाइन नम्बर 88998-90000 एवं ई मेल treas-fdc.uk@nic.in पर समाधान किया जा सकता है।
प्रतिभागियोें को सम्बोधित करते हुये कोषाधिकारी सतीश चन्द्र पाण्डे ने बताया कि हल्द्वानी कोषागार से जुडे 134 आहरण वितरण अधिकारियों तथा 268 लेखा सम्वर्ग के कुल 402 लोगों को प्रशिक्षण दिया गया है। उन्होने सभी आहरण वितरण अधिकारियों एवं लेखा सम्वर्ग के कर्मचारियों से कहा कि वे कर्मचारियो के इम्प्लाई मास्टर एवं ई-सर्विस बुक, एवं ई-भविष्य निधि खाता का अपडेट एवं अपलोड करने का कार्य सावधानी पूर्वक करें ताकि त्रुटिहीन डाटा तैयार हो सके।
प्रशिक्षु वित्त अधिकारी गौरव पाण्डे ने प्रतिभागियो को डाटा प्रोजेक्टर के माध्यम से सम्बन्धित साफ्टवेयर व डिजिटल अभिलेख तैयार करने का विस्तार से प्रशिक्षण दिया। प्रशिक्षण कार्यक्रम में वित्त नियंत्रक मेडिकल कालेज जीबी उपाध्याय, वित्त नियंत्रक खादय एवं रसद विभाग पीसी जोशी, वित्तनियंत्रक श्रम पूजा नेगी, वित्त नियंत्रक मुक्त विश्वविद्यालय आभा गब्र्याल के अलावा सभी आहरण वितरण अधिकारी एवं अन्य सहभागी उपस्थित थे।