पब्लिक रिलेशन्स सोसायटी आफ इंडिया ने यूथ रेडक्रॉस सोसायटी के अध्यक्ष अनिल वर्मा  को ’लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड-2018’ से नवाजा

30
Facebooktwittergoogle_pluspinterest
देहरादून-दिनांक 18 फरवरी 2018ः- पब्लिक रिलेशन्स सोसायटी आफ इंडिया देहरादून चैप्टर द्वारा जागृति फाउंडेशन के तत्वावधान में एक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। उक्त शिविर का उद्घाटन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं पब्लिक रिलेशंस सोसाइटी देहरादून चैप्टर के अध्यक्ष विमल डबराल, जागृति फाउंडेशन के निदेशक  प्रीत कोहली, संरक्षक एडवोकेट अंजना साहनी, महंत इंद्रेश हास्पिटल की डा. ऋचा मित्तल तथा रेड क्रास के श्अनिल वर्मा ने संयुक्त रूप से किया।

 red cross society dehradun

 ’लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड-2018’ 

इस अवसर पर 82 रक्त दाताओं द्वारा स्वैच्छिक रक्त दान किया गया। शिविर में 98वीं बार रक्तदान करने वाले युथ रेडक्रॉस सोसायटी के अध्यक्ष अनिल वर्मा  को ’लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड-2018’ से सम्मानित किया गया। साथ ही 55वीं बार स्वैच्छिक रक्तदान कर रहे समाजसेवी एवं तीन बार पार्षद रहे श्री संदीप पटवाल को भी सम्मानित किया गया।
अपने संबोधन में मुख्य अतिथि श्री विमल डबराल ने कहा कि रक्तदान करना मानवता की पहचान है तथा हमारा सामाजिक दायित्व है। श्री डबराल ने युवा रक्तदाताओं से अपील भी की कि प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति को यथासंभव रक्तदान करते रहना चाहिए जिससे ब्लड बैंकों में हमेशा जरूरतमंदो हेतु रक्त की उपलब्धता बनी रहे और किसी भी जरूरतमंद को रक्त के अभाव में जान न देनी पड़े।
इन्द्रेश हास्पिटल की ब्लड बैंक अधिकारी डा. ऋचा मित्तल ने इस अवसर पर कहा कि वैज्ञानिकों द्वारा भी अभी तक मानव रक्त का विकल्प नहीं खोजा जा सका है इसलिए प्रत्येक मनुष्य का नैतिक दायित्व है कि वह स्वेच्छापूर्वक रक्तदान करे।
जागृति फाउंडेशन के निदेशक श्री प्रीत कोहली ने अपने संबोधन में कहा कि किसी की जिंदगी जब केवल रक्तदान पर ही टिकी हो तो रक्तदान ही जीवनदान बन जाता है और इसीलिये इसे महादान भी कहा जाता है।
रक्तदाता प्रेरक एवं युथ रेडक्रॉस सोसाइटी के अध्यक्ष श्री अनिल वर्मा ने कहा कि आधुनिक चिकित्सा विज्ञान की खोजों में से एक ब्लड ट्रांसफ्यूजन द्वारा प्रतिवर्ष लाखों लोगों की जान बचाई जाती है लेकिन यह भी सत्य है कि समय पर रक्त न मिल पाने के कारण बडी़ संख्या में लोग असमय ही मृत्यु का शिकार हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि रक्तदान से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है तथा साथ ही हृदय रोग एवं रक्तचाप आदि की संभावना भी कम हो जाती है।
इस अवसर पर इंद्रेश हास्पिटल के ब्लड बैंक कोआर्डिनेटर   के साथ ही मोहित चावला, नवीन शुक्ला, अरूण रावत, लेखनी सेमवाल, परवेज व नेहा अग्रवाल,  जागृति फाउंडेशन से भूपेश सिंह, मानस घिल्डियाल, मिहिर तथा पीआरएसआई से मनोज गोविल एवं विकास कुमार द्वारा विशेष सहयोग दिया गया। इस अवसर पर जागृति फाउंडेशन परिसर में रक्तदाताओं के साथ ही बडी़ संख्या में क्षेत्रीय लोग भी उपस्थित थे।