टिहरी घूमने आंए तो इन जगहों पर जरूर जाएं, अब पर्यटक उठा सकते हैं वॉटर स्पोर्ट्स का लुत्फ

168
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

[न्यूज टुडे नेटवर्क]. टिहरी झील महोत्सव का उद्घाटन दिनांक 25 मई 2018 को शाम 5 बजे कोटी कॉलोनी में हुआ था. 3 दिनों तक चलने वाले इस महोत्सव के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद ने देश के नामी ब्लॉगर्स को आमंत्रित किया. बता दें कि कोटी कॉलोनी में आयोजित होने वाला टिहरी महोत्सव के अतिरिक्त इन ब्लॉगर्स ने बस 2.0 से उत्तराखंड के प्रसिद्ध भक्ति पीठों, कुंजापुरी तथा सुरकुण्डा देवी मंदिर और पर्यटन की दृश्टि से महत्वपूर्ण अन्य दर्शनीय स्थलों को भी कवर किया. उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद ने देश के उन चुनिंदा ब्लॉगर्स को आमंत्रित किया. जो अपनी रचनात्मकता और रोमांच के एहसास को अपनी कलम के शब्दों से पिरोने में सक्षम हैं.

सौजन्य से गीतांजिल बनर्जी फेसबुक टाइमलाइन

इन ब्लॉगर्स में से एक हैं- गीतांजिल बनर्जी

ब्लॉगर्स गीतांजलि बनर्जी ने अपनी यात्रा के आरंम्भिक उत्साह और अनुभवों को सोशल मीडिया में शेयर किया जिसे आप भी देख लें कैसा था “टिहरी झील महोत्सव”

“टिहरी झील महोत्सव” के दौरान वाटर स्पोर्ट्स के अंदर- बोटिंग, जेट स्कीईंग, वाटर स्कीईंग, सर्फिंग, कैनोईंग, रिवर राफ्टिंग थी.

Yes, you do get crazy when it is hot air balloon.

Posted by Gitanjali Banerjee on Sunday, 27 May 2018

जबकि ऐरो स्पोर्ट्स में पैराग्लाइडिंग, हॉट एयर बैलून तथा पैराजम्पिंग आदि थी.

गीतांजलि बनर्जी ने कहा कि “ मैं ‘टिहरी झील महोत्सव’ के बारे में काफी कुछ भोयर करना चाहती हूं. दो साल पहले मैं यहां आयी थी तो मैंने अपना दिल यहीं छोड़ दिया था. इस लिहाज से यहां की यात्रा मेरे लिए और भी ज्यादा विशेष है“. बता दें कि गीतांजलि अपने ऑफिशयल ब्लॉग Travel By Karma में काफी सक्रिय रहती हैं. गीतांजलि का ब्लॉग पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें—-Travel By Karma

Womaniya Band at #TehriLakeFestival What a treat! Feeling empowered just to watch it😊 Kudos to UttarakhandTourism 👏👏👏

Posted by Travel by Karma on Saturday, 26 May 2018

 

टीहरी घूमने आए तो इन जगहों पर जरूर घूमें

पिकनिक स्पॉट ज्यादा पसंद आता है. यहां लोग घंटों बैठकर पहाड़ी नजारों का आनंद लेते हैं. इसके ठीक सामने एक पहाड़ी पर देवदर्शन नामक स्थान पर सुंदर मंदिर स्थित है. इसी के पास एक छोटा और खूबसूरत स्टेडियम भी बनाया गया है. टिहरी बांध की ओर से आने वाले रास्ते पर भागीरथी पुरम स्थित है.

यह भी पढ़े- टिहरी झील में स्कूबा डाइविंग कर रोमांच से भर उठे पर्यटक, नही देखा होगा ऐसा एडवेंचर और थ्रिल

इसी के पास टॉप टैरेस नाम का पर्यटक स्थल है. यहां से एक रास्ता गंगोत्री मार्ग के प्रमुख धार्मिक स्थल भागीरथी नदी के तट पर बसे उत्तरकाशी की ओर जाता है. मशहूर पर्यटक स्थल चंबा यहां से मात्र 11 किमी की दूरी पर स्थित है.

बोटिंग, जेट स्कीईंग, वाटर स्कीईंग, सर्फिंग, कैनोईंग, रिवर रॉफ्टिंग के शौकीनों को भागीरथी नदी की खतरनाक ओर फुंफकारती धाराएं खूब लुभाती हैं. पर इसकी तैयारी ऋषिकेश से ही करके चलनी होती है. बस मार्ग से आने वाले सैलानियों को पहले ऋषिकेश पहुंचना होता है. यहां से नई टिहरी के लिए नियमित सेवाएं मिल जाती हैं. यहां ठहरने की कोई समस्या नहीं है.

कई अच्छे होटल और गैस्ट हाउस बने हुए हैं. गढ़वाल मंडल विकास निगम का रैस्ट हाउस भी ठहरने के लिए अच्छा स्थान है. नई टिहरी द्यद्गाहर की दूरी देहरादून से 95 और ऋषि‍केश से केवल 76 किलोमीटर है. पहली बार आप यहां जाने का कार्यक्रम बना रहे हैं तो आपको यहां बहुत मजा आने वाला है.

यह भी पढ़े- नैनीताल घूमने आएं तो इन जगहों पर अवश्य जाएं

यह भी पढ़े- उत्तराखंड़- नैनीताल घूमने आएं , तो यहाँ मिलेंगे सस्ते होटल